Share
पीअर प्रेशर BACK

बालमित्रों, हम सभी किसी न किसी ध्येय को लेकर जीवन जीते हैं। किसी का ध्येय पढ़-लिखकर अच्छी नौकरी करने का, किसी का कोई पदवी प्राप्त करने का तो किसी का हर एक को सुख देने का, इस प्रकार से हर एक का अलग-अलग ध्येय रहता है। लक्ष की प्राप्ति के लिए हम बहुत प्रयत्न और परिश्रम करते हैं। कभी-कभी ध्येय की ओर तेज़ी से आगे बढ़ते हैं तो कभी-कभी ध्येय से विरुद्ध चले जाते हैं। जब हमें अपने लक्ष का पता ही है तो भी हम उससे विमुख हो जाएँ ऐसे कदम क्यों उठा लेते हैं? इस अंक में ध्येय से भटक जाने के या ध्येय की ओर ले जाने के अनेक परिबलों में से मुख्य परिबल - "हमारे आसपास के लोग (पिअर्स) और उनका हम पर पड़ने वाला प्रभाव" उसके बारे में जानेंगे और ध्येय से विरुद्ध ले जाने वाले पिअर्स से कैसे बचें, उसके उपाय प्राप्त करेंगे। तो चलो जाने, मज़ा करें और आगे बढ़ें।